अंगूर की बेल की छंटाई के समय काटी जाने वाली शाखाएं मूल रूप में खराब नहीं होतीं। उनका उद्देश्य , पुष्ट अंगूर का निर्माण करने के हमारे उद्देश्य से केवल उल्टा है। यदि हम वर्ष के इस समय में बेल की प्राकृतिक वृद्धि को मापते हैं,जो ऊर्जा इसने आम तौर पर अत्यधिक वृद्धि पर खर्च करनी थी हम उस ऊर्जा को फूल और फल की और प्रवाहित कर देते हैं। यही छंटाई का उद्देश्य है; यह मार्च महीने की साधना है।

यही अनुशासन सूक्ष्म ब्रह्मांड हमारे भीतरी जगत पर लागू किया जाना चाहिए: यदि हमें अपनी चेतना के निर्माण में वृद्धि की उम्मीद है,
हमें ऊर्जा के प्राकृतिक आवंटन को पुनर्निर्देशित करना होगा। "हम चेतन रह सकते हैं" अगर हमारे पास स्वयं को स्मरण करने के लिए ऊर्जा है,'' जॉर्ज गुर्जिफ़ ने कहा है।
"ज्यादातर ऊर्जा अनावश्यक जल्दबाजी, घबराहट, चिड़चिड़ापन, कल्पनाशीलता, सपनों में रहना , बुरी मनोदशा ,अप्रिय घटनाओं की संभावना , संभव और असंभव की उम्मीद पर, अनावश्यक और अप्रिय भावनाओं पर खर्च की जाती है।''यदि हमारे पास अपने आप को चेतन रखने का कोई उद्देश्य नहीं था - अगर हम अच्छी शराब का निर्माण करने का लक्ष्य नहीं रखते - तो हम स्वतंत्र रूप से नकारात्मकता और दिन में सपने देख सकते हैं।हमारे मनोविज्ञान की लताओं (शाखाओं ) को केंद्रभ्रष्ट, सनकी, और परिणाम के बिना भी विचित्र दिशाओं में घूमने की अनुमति दी जा सकती है।
लेकिन एक व्यक्तिगत और सार्थक तरीके से चेतन होने का उद्देश्य तैयार किया - जैसा हमने जनवरी महीने में साधना के दौरान किया था - अब हम अपने संसाधनों के आवंटन के साथ अधिक पहचान बनाने के लिए बाध्य हैं।

"ऊर्जा केंद्रों के गलत काम पर बर्बाद हो जाती है; गुर्जिएफ़ जारी रखते हुए कहते हैं , " मांसपेशियों के अनावश्यक तनाव पर; सतत बकवास पर जो ऊर्जा की भारी मात्रा को अवशोषित करता है; 'दिलचस्पी ' पर जो लगातार हमारे आसपास या अन्य लोगों के आसपास होने वाली चीजों में ली जाती है और वास्तव में कोई दिलचस्पी नहींहोती होती ; 'ध्यान' की शक्ति के निरन्तर व्यय पर ऊर्जा नष्ट होती रहती है।

अपनी आदतों को ऊर्जा के रिसाव के रूप में देखना उन्हें सामान्य प्रकाश मेंखड़ा कर देता है। मैं चिड़चिड़ा हो गया, इसलिए नहीं कि मैं एक बुरा इंसान हूँ, लेकिन क्योंकि मेरे पास बहुत अधिक अप्रयुक्त ऊर्जा है। मैं चिंताओं को रोकता हूं, इसलिए नहीं कि मैं चिंतित व्यक्ति हूं, लेकिन क्योंकि मेरे पास बहुत अधिक अप्रयुक्त ऊर्जा है। मैं सपने देखने में व्यस्त हूं, इसलिए नहीं कि मैं एक अव्यवहारिक व्यक्ति हूं, लेकिन क्योंकि मेरे पास बहुत अधिक अप्रयुक्त ऊर्जा है। अपने आप को और अधिक बार-बार चेतन रखना, अधिक समय तक, और अधिक गहराई से - ऊर्जा के इन व्ययों को नियंत्रित करना होगा और क्योंकि मैं अपने दिन को ऊर्जा से भरे हुए यंत्रों के साथ शुरू कर रहा हूं, उन्हें विशेष रूप से देखा जाना चाहिए और मेरे दिन की शुरुआत में नियंत्रित होना चाहिए अगर मैं अपनी सुबह को चेतना से सराबोर होकर गुज़ारता हूँ, तो मैं एक मजबूत शुरुआत करूँगा और अपने पूरे दिन के लिए एक बेहतर ठहराव में रहूँगा ।

आइए, हम अपने दिन की शुरुआत को चेतना से भरपूर जी कर मार्च महीने की साधना में प्रवेश करें। अपने दिन के पहले घंटे को देखें। ऊर्जा के रिसाव क्या हैं जिसके माध्यम से आपके ताज़ा भरे हुए यंत्रों को आदतन समाप्त होना पड़ रहा है? यदि आप उन्हें नियंत्रित करने के लिए एक केंद्रित प्रयास करते हैं तो क्या होता है? नीचे अपनी टिप्पणियां साझा करें।